मुंबई: मां और 4 बच्चों की हत्या का मामला, पुलिस ने 28 साल बाद नोटिस को पकड़ा

मुंबई: मां और 4 बच्चों की हत्या का मामला, पुलिस ने 28 साल बाद नोटिस को पकड़ा


मुंबई मीरा रोड मर्डर केस: चार बच्चों सहित एक महिला की निर्मम हत्या के मामले में मीरा-भायंदर वसई विरार (एमबीवीवी) पुलिस ने 28 साल बाद तीन सप्ताह में गुरुवार को मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से पकड़ा.

मीरा-भायंदर वसई विरार पुलिस उपायुक्त (अपराध) अविनाश अंबुरे से मिली जानकारी के अनुसार, पुलिस को बड़ी सफलता तब मिली जब काशीमीरा पुलिस ने पुराने मामले को फिर से खोला। 17 नवंबर- 1994 को तीन लोगों ने कथित तौर पर 27 साल की एक महिला, चक्रमदेवी प्रजापति और उसके चार नाबालिग बच्चों- प्रमोद (5), पिंकी (3), पिंटू (2) और तीन महीने के बच्चों पर हमला किया और बेरहमी से मार डाला था। हत्या की घटना को अंजाम देने के बाद तीनों फरार हो गए थे।

पिछले साल फिर से शुरू हुई थी जांच

पिछले साल जब इस मामले की जांच एक बार फिर से शुरू की गई थी तो पुलिस को जानकारी मिली थी कि तिकड़ी गिरफ्तारियों में से एक पंच राजकुमार अमरनाथ चौहान उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में रहता है। जानकारी मिलने के बाद मीरा-भायंदर वसई विरार पुलिस ने वाराणसी पुलिस के साथ मिलकर जांच शुरू की। पुलिस जांच में पता चला कि राजकुमार चौहान हत्याकांड का अंजाम देने के बाद उत्तर प्रदेश लौट आया था।

28 साल बाद मिली पुलिस को सफलता

सदी राजकुमार अमरनाथ चौहान कई सालों से कतर में एक निजी कंपनी में काम कर रहा था। पुलिस को यह भी जानकारी मिली कि राजकुमार हर 2 साल में अपने गांव आया करता था। प्रिंस आखिरी बार साल 2020 में अपने गांव आया था। इसके बाद मुंबई एयरपोर्ट के अधिकारियों और अन्य दस्तावेजों से एमबीवीवी पुलिस की टीमें उनका इंतजार कर रही थीं। गुरुवार को देर रात सफलता मिली। 28 साल पुराने मामले को लेकर पुलिस ने पकड़ लिया। एमबीवीवी पुलिस हत्या में अन्य दो झीलों की तलाश में शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: कंधार हाईजैक: वो किस्सा, जब कर्जदारों को छुड़वाने के लिए किया मुफ्ती मोहम्मद सईद का जिक्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *